गोडवाड़ विरासत (सांस्कृतिक, ऐतिहासिक हिन्दी मासिक पत्रिका) एक परिचय Print

‘गोडवाड़ विरासत’ का प्रकाशन विगत 3 वर्षो से हो रहा है। अब इसे नियमित रूप से मासिक प्रकाशन करते हुए देश के कोने-कोने में बस रहे गोडवाड़-मारवाड़ के महानुभावों तक इस पत्रिका को पहुंचाया जा रहा है। समय की जरूरतों तथा आज की नौजवान पीढ़ी व संरक्षण के प्रति साहित्यिक, ऐतिहासिक, धार्मिक के अनुसार हम पत्रिका को सुपठनीय व लोकोपयोगी बनाने के लिए प्रयासरत है। इसमें आपकी सक्रिय रूप से सहभागिता की विनम्र अपेक्षा है।

गोडवाड़ विरासत केवल पत्रिका मात्र नहीं है, यह गोडवाड़ की सांस्कृतिक, ऐतिहासिक, धार्मिक संवाहक अग्रदूत भी है। इस साहित्य प्रबोधन अभियान में आपका सहभाग अभीष्ट है। कृपया इस विरासत से जुडे़ एवं औरों को भी जोड़े।

शुभाकांक्षी
डॉ. भंवरसिंह राठौड़
प्रधान सम्पादक (‘गोडवाड़ विरासत’)